BSNL अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

BSNL कर्मचारियों ने की हड़ताल – 

सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल की कर्मचारी यूनियनों ने दूरसंचार क्षेत्र के वित्तीय संकट के लिए निजी कंपनी रिलायंस जियो को जिम्मेदार ठहराया है ।

यूनियनों का आरोप है कि सरकार अन्य कंपनियों की तुलना में रिलायंस जियो को संरक्षण दे रही है । यूनियनों ने इसके विरोध में 3 दिसंबर से अनिश्चितकालीन ह्रड़ताल पर जाने की घोषणा की है ।

Advertisement

कर्मचारी यूनियन का दावा है कि सरकार ने बीएसएनएल को 4जी सेवाओ के लिए स्पेक्ट्रम का आवंटन इसलिए नहीं किया है ताकि वह जियो के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं कर सके । रिलायंस जियो ने , इन आरोपों पर टिप्पणी नहीं की है ।

सूचना दूरसंचार क्षेत्र संकट में-

बीएसएनएल यूनियनों ने संयुक्त बयान में कहा कि फिलहाल सूचना दूरसंचार क्षेत्र संकट में है। इसकी प्रमुख वजह यह है कि मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी बाजार बिगाड़ने वाली दरें रखी है।

Advertisement

जियो का खेल बीएसएनएल सहित अपने सभी प्रतिद्वंदियों को पूरी तरह बाजार से गायब करना है ।

आँल यूनियंस ऐड असोसिएशंस आँफ बीएसएनएल (एयूएबी) ने आरोप लगाया है कि पैसै की ताकत पर रिलायंस जियो लागत से कम दरें पेश कर रही है।

जिओ की दरों में बढ़ोतरी –

Advertisement

एयूएबी ने कहा कि निजी क्षेत्र की कई दूरसंचार कंपनियां एयरसेल, टाटा टेलीसर्विसेज, अनिल अंबानी की रिलायंस टेलीकम्युनिकेशंस ओर टेलिनॉर पहले ही अपने मोबाइल कारोबार को बंद कर चुकी है।

बयान में कहा गया है कि पूरी प्रतिस्पर्धा समाप्त होने के बाद जियो दरों में जोरदार बढोतरी करेगी ।

डेटा में बढ़ोतरी –

Advertisement

कहा गया है कि बाद में जियो कॉल और डाटा शुल्क में भारी वृद्धि कर जनता को लूटेगी ।

यह हमारे लिए चिंता का विषय है । रिलायंस जियो को खुलेआम नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से संरक्षण मिल रहा है ।

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओक) से तत्काल इस पर प्रतिक्रिया नहीं मिल सकीं ।

Advertisement

4G स्पेक्ट्रम की मांग –

एयूएबी ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी सरकार से 4जी स्पेक्ट्रम की मांग करती आ रही है, लेकिन सरकार के कान में जू तक नहीं रेंग रही है ।

यह सरकार की सोची समझी रणनीति है ताकि सरकारी कंपनी को रिलायंस जियों के साथ प्रतिस्पर्धा से रोका जा सके ।

Advertisement

एयूएबी ने कहा है कि बीएसएनएल के सभी अधिकारी और कर्मचारी 3 दिसंबर 2018 से अनिश्चितकालीन हडताल पर जा रहे है।

Advertisement

Spread the love