Maharaja Agrasen Jayanti

Maharaja Agrasen Jayanti 2020 – अग्रसेन जयंती 2020

Maharaja Agrasen Jayanti 2020 :  महाराजा अग्रसेन( maharaja agrsen) व्यापारियों के शहर अग्रोहा के एक महान भारतीय महाराजा  थे । महाराजा अग्रसेन का जन्म क्षत्रिय कुल में हुआ था महाराजा अग्रसेन  समाजवाद के प्रर्वतक, युग पुरुष, राम राज्य के समर्थक एवं महादानी थे। वे अग्रोदय नामक गणराज्य के महाराजा थे। जिसकी राजधानी अग्रोहा थी। 

इस बार Maharaja Agrasen Jayanti दिन  Saturday को  17 October 2020 तारीख को है।

देखे कितने नक्षत्र है, और उनके क्या गुण है – 27 नक्षत्रो के नाम

Advertisement

जीवन परिचय

 महाराजा अग्रसेन  ( maharaja agrsen) का जन्म सूर्यवंशीय महाराजा वल्लभ सेन ( ballabhasen ) के अन्तिमकाल और कलियुग के प्रारम्भ में आज से 5143 वर्ष पूर्व हुआ था। जो की समस्त खांडव प्रस्थ, बल्लभ गढ़, अग्र जनपद ( आज की दिल्ली, बल्लभ गढ़ और आगरा) के राजा थे। उन के राज में कोई दुखी या लाचार नहीं था।

maharaja agrsen बचपन से ही वे अपनी प्रजा में बहुत लोकप्रिय थे। वे एक धार्मिक, शांति दूत, प्रजा वत्सल, हिंसा विरोधी, बली प्रथा को बंद करवाने वाले, करुणानिधि, सब जीवों से प्रेम, स्नेह रखने वाले दयालू राजा थे। ये बल्लभ गढ़ और आगरा के राजा बल्लभ के ज्येष्ठ पुत्र, शूरसेन( shursen) के बड़े भाई थे।maharaja agrsen भगवान राम के पुत्र कुश के 34 वीं पीढ़ी के हैं । 15 वर्ष की आयु में, अग्रसेन जी ने पांडवों के पक्ष से महाभारत युद्ध लड़ा था ।

भगवान कृष्ण ने कहा है कि अग्रसेनजी कलयुग में एक युद्ध पुरुष और अवतार होंगे जो जल्द ही द्वापर युग की समाप्ति के बाद आने वाले हैं। अग्रवाल का अर्थ है “अग्रसेन की संतान” या ” अग्रोहा के लोग।

Advertisement

महाराजा अग्रसेन का जन्म महाभारत ( mahabhart) महाकाव्य ( mahakavya) काल में द्वापर युग के अंतिम चरणों में हुआ था, वे भगवान कृष्ण के समकालीन थे। वह राजा वल्लभ देव ( ballabha dev) के पुत्र थे जो कुश (भगवान राम के पुत्र) के वंशज थे। महाराजा अग्रसेन के १८ बच्चे थे , जिनसे अग्रवाल गोत्र अस्तित्व में आए।

महाराजा अग्रसेन( maharaja agrsen) ने राजा नागराज कुमुद( nagraj kumud) की बेटी माधवी( madhavi) के स्वयंवर में भाग लिया । हालाँकि, स्वर्ग के देवता इंद्र और भी बारिश के स्वामी, माधवी(madhavi) से शादी करना चाहते थे, लेकिन उन्होंने maharaja agrsen को  अपने पति के रूप में चुना।

इस वजह से, इंद्र क्रोघित हो गए और यह सुनिश्चित करने का निर्णय लिया कि pratapnagar बारिश नहीं होगी। नतीजतन, एक अकाल ने महाराजा अग्रसेन के राज्य को मारा,और तब महाराजा अग्रसेन इंद्र के खिलाफ युद्ध छेड़ने का फैसला किया। ऋषि नारद इंद्र के पास पहुंचे, जिन्होंनेmaharaja agrsen और इंद्र के बीच शांति की मध्यस्थता की। महर्षि गर्ग की सलाह के अनुसार, उन्होंने अपने धन और स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए सुंदरवती से विवाह किया।

Advertisement

 

महाराजा अग्रसेन जी की जीवनी || महाराजा अग्रसेन जलपोत || महाराजा अग्रसेन जलपोत लेने विदेश इनमे से कौन गए थे ? || महाराजा अग्रसेन जी के जन्म का समय क्या है? || महाराजा वल्लभ सेन || महाराजा अग्रसेन के पूर्वज || अग्रसेन महाराज गोत्र || अग्रसेन जयंती 2020

 

Advertisement
Advertisement
Spread the love