hanuman-chalisa

Hanumna Chalisa

हनुमान चालीसा का महत्व

हम सब ने सुना है की जब आप को किसी चीज से दर लगे और मन अशांत हो तो बजरंग बलि को याद करना चाहिए| और ये बात सत्य है और लोगो का तजुर्बा भी है की हनुमान चालीसा से इंसान को आत्मबल, मान की शांति और आत्मविश्वास जागता है|

हिंदू धर्म में हनुमान चालीसा का बड़ा ही महत्‍व है। हनुमान चालीसा का पाठ या बजरंगबली का जाप करें से शनि ग्रह और साढे़ साती का प्रभाव कम होता है।

और ऐसा माना जाता है की हनुमान जी का स्मरण करने से श्री राम और श्री राम का स्मरण करने से दोनों का ही आशीर्वाद मिलता है| इस लिये भी हमने हनुमान चालीसा का जाप करना चाहिये|

Advertisement

हनुमान चालीसा का पाठ कब और कैसे करे

हनुमान-चालीसा का पाठ करने से हम अपनी भक्ति की शक्ति को जगा सकते है| किसी भी स्थति में आप का मान घबराता नहीं है| तो अब हम बात करते है हनुमान चालीसा का पाठ कब और कैसे करे… सुबह पहले नित जीवन के कार्यो, स्नान के पश्चात साफ वस्त्र धारण करके हनुमान चालीसा का पाठ करे, यही प्रक्रिया आप सायकाल में भी कर सकते है| और जाप करने का समय नहीं मिल पा रहा हो तो आप हनुमान जी को प्रणाम कर ऑडियो भी सुन सकते है|
हनुमान चालीसा के बाद में और पहले प्रभु श्री राम का नाम आवश्य ले…. क्योंकी हनुमान जी को श्री राम अपने प्राणो से भी प्यारे है|

हनुमान चालीसा का पाठ पढ़ने का लाभ–

1. बुरी आत्‍माओं को भगाए और आत्मबल जगाये|

2. ग्रहो का दुस्प्रभाव जैसे की साढे़ साती, मंगल आदि का प्रभाव कम करे

Advertisement

3. पाप से मुक्‍ती दिलाए और गलत रास्ते पर जाने से रोके

4. बजरंबली अपने भक्तो का बुरा करने वालो का नाश करते है

॥दोहा॥

Advertisement

श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि ।
बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि ॥

बुद्धिहीन तनु जानिके सुमिरौं पवन-कुमार ।
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं हरहु कलेस बिकार ॥

॥चौपाई॥

Advertisement

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर ।
जय कपीस तिहुँ लोक उजागर ॥१॥

राम दूत अतुलित बल धामा ।
अञ्जनि-पुत्र पवनसुत नामा ॥२॥

महाबीर बिक्रम बजरङ्गी ।
कुमति निवार सुमति के सङ्गी ॥३॥

Advertisement

कञ्चन बरन बिराज सुबेसा ।
कानन कुण्डल कुञ्चित केसा ॥४॥
हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै ।
काँधे मूँज जनेउ साजै ॥५॥

सङ्कर सुवन केसरीनन्दन ।
तेज प्रताप महा जग बन्दन ॥६॥

बिद्यावान गुनी अति चातुर ।
राम काज करिबे को आतुर ॥७॥

Advertisement

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया ।
राम लखन सीता मन बसिया ॥८॥

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा ।
बिकट रूप धरि लङ्क जरावा ॥९॥

भीम रूप धरि असुर सँहारे ।
रामचन्द्र के काज सँवारे ॥१०॥

Advertisement

लाय सञ्जीवन लखन जियाये ।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये ॥११॥

रघुपति कीह्नी बहुत बड़ाई ।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई ॥१२॥

सहस बदन तुह्मारो जस गावैं ।
अस कहि श्रीपति कण्ठ लगावैं ॥१३॥

Advertisement

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा ।
नारद सारद सहित अहीसा ॥१४॥

जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते ।
कबि कोबिद कहि सके कहाँ ते ॥१५॥

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीह्ना ।
राम मिलाय राज पद दीह्ना ॥१६॥

Advertisement

तुह्मरो मन्त्र बिभीषन माना ।
लङ्केस्वर भए सब जग जाना ॥१७॥

जुग सहस्र जोजन पर भानु ।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू ॥१८॥

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं ।
जलधि लाँघि गये अचरज नाहीं ॥१९॥

Advertisement

दुर्गम काज जगत के जेते ।
सुगम अनुग्रह तुह्मरे तेते ॥२०॥

राम दुआरे तुम रखवारे ।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे ॥२१॥

सब सुख लहै तुह्मारी सरना ।
तुम रच्छक काहू को डर ना ॥२२॥

Advertisement

आपन तेज सह्मारो आपै ।
तीनों लोक हाँक तें काँपै ॥२३॥

भूत पिसाच निकट नहिं आवै ।
महाबीर जब नाम सुनावै ॥२४॥

नासै रोग हरै सब पीरा ।
जपत निरन्तर हनुमत बीरा ॥२५॥

Advertisement

सङ्कट तें हनुमान छुड़ावै ।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै ॥२६॥

सब पर राम तपस्वी राजा ।
तिन के काज सकल तुम साजा ॥२७॥

और मनोरथ जो कोई लावै ।
सोई अमित जीवन फल पावै ॥२८॥

Advertisement

चारों जुग परताप तुह्मारा ।
है परसिद्ध जगत उजियारा ॥२९॥

साधु सन्त के तुम रखवारे ।
असुर निकन्दन राम दुलारे ॥३०॥

अष्टसिद्धि नौ निधि के दाता ।
अस बर दीन जानकी माता ॥३१॥

Advertisement

राम रसायन तुह्मरे पासा ।
सदा रहो रघुपति के दासा ॥३२॥

तुह्मरे भजन राम को पावै ।
जनम जनम के दुख बिसरावै ॥३३॥

अन्त काल रघुबर पुर जाई ।
जहाँ जन्म हरिभक्त कहाई ॥३४॥

Advertisement

और देवता चित्त न धरई ।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई ॥३५॥

सङ्कट कटै मिटै सब पीरा ।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा ॥३६॥

जय जय जय हनुमान गोसाईं ।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं ॥३७॥

Advertisement

जो सत बार पाठ कर कोई ।
छूटहि बन्दि महा सुख होई ॥३८॥

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा ।
होय सिद्धि साखी गौरीसा ॥३९॥

तुलसीदास सदा हरि चेरा ।
कीजै नाथ हृदय महँ डेरा ॥४०॥

Advertisement

॥दोहा॥

पवनतनय सङ्कट हरन मङ्गल मूरति रूप ।
राम लखन सीता सहित हृदय बसहु सुर भूप ॥

Advertisement
Advertisement
Spread the love