Shidhidatri-navratri-puja-vidhi-mantra-aarti

Maa siddhidatri

माँ सिद्धिदात्री की आरती नवरात्री के नौवे दिन की पूजा के लिये| जय सिद्धिदात्री माता लिरिक्स| जय सिद्धिदात्री मां तू सिद्धि की दाता । तू भक्तों की रक्षक तू दासों की माता

सिद्धिदात्री माता की आरती

जय सिद्धिदात्री मां तू सिद्धि की दाता । तू भक्तों की रक्षक तू दासों की माता ।।

तेरा नाम लेते ही मिलती है सिद्धि । तेरे नाम से मन की होती है शुद्धि ।।

Advertisement

कठिन काम सिद्ध करती हो तुम । जभी हाथ सेवक के सिर धरती हो तुम ।।

तेरी पूजा में तो ना कोई विधि है । तू जगदंबे दाती तू सर्व सिद्धि है ।।

रविवार को तेरा सुमिरन करे जो । तेरी मूर्ति को ही मन में धरे जो ।।

Advertisement

तू सब काज उसके करती है पूरे । कभी काम उसके रहे ना अधूरे ।।

तुम्हारी दया और तुम्हारी यह माया । रखे जिसके सिर पर मैया अपनी छाया ।।

सर्व सिद्धि दाती वह है भाग्यशाली । जो है तेरे दर का ही अंबे सवाली ।।

Advertisement

हिमाचल है पर्वत जहां वास तेरा । महा नंदा मंदिर में है वास तेरा ।।

मुझे आसरा है तुम्हारा ही माता । भक्ति है सवाली तू जिसकी दाता ।।

नवरात्री के नौवे दिन महानवमी को माता सिद्धिदात्री की पूजा के दौरान यह आरती विशेष रूप से गायी जाती है।

Advertisement
Spread the love