लालू यादव के चेंबर में तेजप्रताप का जनता दरबार

लालू यादव के चेंबर में तेजप्रताप का जनता दरबार

पटना: लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने कहा कि अगर उन्हें पार्टी का नेतृत्व सौंपा गया तो वह पीछे नहीं हटेंगे। राजनीतिक सक्रियता बढ़ाते हुए तेजप्रताप यादव राजद के प्रदेश कार्यालय पहुंचे और पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद के कक्ष में बैठने के साथ ही जनता दरबार लगाकर कार्यालय आए लोगों की समस्याएं सुनीं और जनता से मिलकर उनके समस्याओं का निवारण किया। लालू प्रसाद भी ऐसे ही अपने पास आए लोगों से मिलकर उनकी फरियाद सुना करते थे।

छोटे भाई तेजस्वी यादव के साथ मतभेद की अटकलों को खारिज करते हुए तेजप्रताप ने इसे दुष्प्रचार बताया। तेजस्वी को प्रदेश का मुख्यमंत्री बनवाने और स्वयं पार्टी की कमान संभालने के प्रयास में लगे होने की चर्चा को तेजप्रताप ने गलत और अफवाह बताया।

तेजप्रताप ने कहा ‘वह एक जनप्रतिनिधि और पार्टी नेता के तौर पर जनता की समस्या को सुनने के लिए जनता दरबार लगाने की शुरुआत की है और इसे नियमित रूप से जारी रखेंगे।’

Advertisement

तेजप्रताप ने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘सभी लोग राजनीति में लगे हुए हैं और ‘सुशासन बाबू’ के राज में जनता त्राहि-त्राहि कर रही है। उनकी समस्याओं को सुनने के लिए कोई तैयार नहीं है। जनता का सेवक होने के नाते उनकी समस्याओं को सुनना और उसका निराकरण करना हमारा दायित्व है। वह लालू प्रसाद के काम को ही आगे बढ़ा रहे हैं। राज्य के अलग-अलग जिलों में भी वह जनता दरबार लगाकर लोगों की समस्याएं सुनेंगे और उसके निदान का उपाय करेंगे।’

पार्टी की कमान सौंपी जाने की बात पर तेजप्रताप ने कहा, ‘अगर हमें ऐसा मौका मिलता है और राजद प्रमुख लालू प्रसाद हमें यह जिम्मेदारी सौंपतें हैं तो हम उसे जरूर निभाएंगे। इससे पीछे नहीं हटेंगे। पार्टी सभी के सहयोग से चलती है। पार्टी में सबकी अपनी-अपनी जिम्मेदारी है और वह अपना-अपना दायित्व निभाते हैं।’

 

Advertisement
Spread the love