Abhijit Shubh Muhurat

Aaj ka Abhijit Muhurat

निए आज का अभिजीत महूर्त (aaj ka shubh muhurat or aaj ka Abhijit Muhurat), वैदिक ज्योतिष के अनुसार.

अभिजीत मुहूर्त श्रेष्ठ मुहूर्तों में से एक माना जाता है। अभिजीत मुहूर्त दिन के समय का सबसे अच्छा शुभ समय होता है जो की लगभग 48 मिनट का होता है। अभिजीत मुहूर्त दोषो और बाधाओं को समाप्त करता है। जिससे की किसी भी प्रकार का शुभ काम सफलता पूर्वक संपन्न हो।

अभिजीत मुहूर्त किसी भी शुभ कार्य के लिये जाना जाता है। दिन के समय में कोई भी शुभ काम को करने के लिये बिना पेचीदगियों के, चूना जा सकता है।

अभिजीत मुहूर्त सूर्योदय और सूर्यास्त के बीच सबसे अच्छे सिद्ध होने वाले मुहूर्तों में से एक शुभ मुहूर्त है। सूर्योदय और सूर्यास्त के बीच के समय अंतराल को 15 बराबर भागों में बांटा गया है और पंद्रह भागों के मध्य भाग को अभिजीत मुहूर्त के नाम से जाना जाता है।

यदि सूर्योदय सुबह 6 बजे होता है और सूर्यास्त किसी विशेष स्थान के लिए शाम 6 बजे होता है तो अभिजीत मुहूर्त दोपहर से ठीक 24 मिनट पहले शुरू होगा और दोपहर के 24 मिनट बाद समाप्त होगा । दूसरे शब्दों में अभिजीत मुहूर्त ऐसे स्थान के लिए सुबह 11:40 से 12:20 बजे के बीच होगा । सूर्योदय और सूर्यास्त का समय मौसमी परिवर्तन होने के कारण अभिजीत मुहूर्त का सही समय और अवधि तय नहीं है।

मान्यता है कि अभिजीत मुहूर्त के दौरान भगवान शिव ने राक्षस त्रिपुरासुर की हत्या कर दी थी। इसके अलावा अभिजीत मुहूर्त में भगवान विष्णु का आशीर्वाद है जो इस मुहूर्त की मुद्रा के दौरान अपने सुदर्शन चक्र से असंख्य दोषों का नाश करते हैं।

अभिजीत मुहूर्त को अभिजिन मुहूर्त, चतुर्ष्ठा लग्न, कुतुब मुहूर्त और स्वामी तीथियां मुहूर्त के नाम से भी जाना जाता है। मुहूर्त में मुहूर्त भी मुहूर्त और मुहूर्त के रूप में वर्तनी है। अभिजीत मुहूर्त का काउंटर हिस्सा निशाता काल है जो आधी रात के दौरान जस का तस है।

ध्यान रहे कि अभिजीत मुहूर्त बुधवार को उपयुक्त नहीं है क्योंकि यह इस कार्यदिवस पर मलेफिक मुहूर्त बनाता है। अभिजीत मुहूर्त विवाह और उपनयना समारोह जैसी मांगलिक गतिविधियों के लिए भी उपयुक्त नहीं है।

Spread the love