Shubha Hora

Shubh Hora – आज के शुभ होरा मुहूर्त हिंदी पंचांग कैलेंडर 2020 के अनुसार

दिन होरा
HORATIME
शनि6:51 : 7:51
गुरु7:51 : 8:51
मंगल8:51 : 9:51
सूर्य9:51 : 10:51
शुक्र10:51 : 11:51
बुध11:51 : 12:51
चन्द्र12:51 : 13:51
शनि13:51 : 14:51
गुरु14:51 : 15:51
मंगल15:51 : 16:51
सूर्य16:51 : 17:51
शुक्र17:51 : 18:51
रात होरा
HORATIME
बुध18:51 : 19:51
चन्द्र19:51 : 20:51
शनि20:51 : 21:51
गुरु21:51 : 22:51
मंगल22:51 : 23:51
सूर्य23:51 : 0:51
शुक्र0:51 : 1:51
बुध1:51 : 2:51
चन्द्र2:51 : 3:51
शनि3:51 : 4:51
गुरु4:51 : 5:51
मंगल5:51 : 6:51

शुभ होरा

वैदिक ज्योतिष समय की गणना के हिसाब से दिन के समय के प्रत्येक घंटे को होरा परिभाषा दी है। आधुनिक घड़ी की तरह ही, हिंदू पंचांग में सूर्योदय से सूर्यास्त और रात का पहर मिलाकर 24 होरा होते हैं। इसको आप एक होरा बराबर दिन की एक घंटे की अवधि होती है और इस समय पर विशेष ग्रह शासित होता है। और यही ग्रह निश्चित करते है की होरा मंगलकारी होगा या नहीं। किसी कार्य की योजना बनाने और उसका सफलता पूर्वक संपन्न होने तथा बुरे प्रभावों से बचने के लिए होरा का उपयोग किया जाता है।

शिशु के जन्म का प्रेडिक्शन या दिन के सबसे योग्य समय में कार्य को करने की शुभ होरा गणना काम में ली जाती है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार होरा टेबल से जीवन के मजबूत व कमजोर समय की पहचान करने में मदद करता है।

शुभ होरा की गणना

किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली की गणना होरा के अनुसार की जाती है। अगर आप के मान में यह प्रश्न है की आपका जन्म किस शुभ होरा में हुआ है तो यही जानकारी आप के ज्ञान की बढ़ने वाली है की इंसान सूर्य होरा या चंद्र होरा में ही जन्म लेता है।

Advertisement

जब दिन के शुभ होरा देखे तो है तो सूर्य, शुक्र और बृहस्पति पर अधिक ध्यान दिया जाता है, क्योंकि ये एक मजबूत ग्रह के रूप में जाने जाते है।

जबकि रात के शुभ होरा को देखे तो चंद्रमा, मंगल और शनि पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है। ऐसा माना जाता है की ये ग्रह रात में शक्तिशाली होते हैं।

इनके अलावा, जन्म के समय के आधार पर बुध अपना प्रभाव बढ़लता रहता है। यह तब प्रभावशाली होता है जब किसी जन्म का समय सूर्योदय या सूर्यास्त के पास होता है।

Advertisement

हर जातक की अपनी जन्म राशि होती है। प्रत्येक राशि को राशिचक्र में 30 अंश की वैल्यू दिन गई है। इस वैल्यू को आगे दो बराबर हिस्सों में बांटा जाता है। वृष, कर्क, कन्या, वृश्चिक, मकर और मीन राशियों के जातक रात के शुभ होरा के होते हैं, और चंद्रमा द्वारा शासित होते हैं। तो वहीं मेष, मिथुन, सिंह, तुला, धनु और कुंभ राशि के जातक दिन के शुभ होरा के होते हैं और सूर्य द्वारा शासित होते है।

इन सभी तथ्यों के आधार पर होता टेबल तैयार की जाती है और एक बार ग्रहों के होरों का विश्लेषण करके, विभिन्न कार्यों को करने के लिए शुभ और अशुभ समय का होरा परिणाम देते हैं।
एक होरा में प्रत्येक ग्रह स्वामित्व और उसका महत्व है।

शुभ होरा की ज़रूरत दिन की योजना बनाने के लिए ग्रहों की चाल के अनुसार की जाती है। प्रत्येक ग्रह एक विशेष प्रकार के कार्य को संपन्न करने में सहयोग देता हैं। लक्ष्य प्राप्ति के लिया मार्ग प्रसस्त करता है।

Advertisement
No.PlanetWork
1सूर्यसरकार से संबंधित कार्य, प्रशासनिक, खेल, स्वास्थ्य,
2चंद्रमाकृषि संबंधी गतिविधियाँ, जनसंपर्क, घरेलू गृहस्थी, मातृ देखभाल, सामाजिक सेवाएं
3बुधसूचना प्रौद्योगिकी, शिक्षा, , संचार, व्यवसाय
4शुक्रवाद-विवाद, सामाजिक सेवाएं, घरेलू गृहस्थी, कला, मनोरंजन,प्रतियोगिता, साहित्य,
5मंगलनिर्माण, खेल, मशीन, शारीरिक कार्य, सैन्य,
6बृहस्पतिशिक्षा प्रारंभ करें , वित्तीय, सांस्कृतिक गतिविधियाँ, धार्मिक, यात्रा, मातृ, यात्रा,
7शनिनया व्यवसाय, घरेलू गृहस्थी, विवाद निपटारा, सफाई,

शुक्र और बृहस्पति ग्रहों के शुभ होरा में यदि कोई कार्य संपन्न होता है तो उस कार्य का परिणाम जन्म कुंडली के अनुसार प्राप्त होगा। इसके उल्टा, शनि और मंगल ग्रह के होरा में कार्य करते समय सावधान रहना चाहिए, क्योंकि ये आप को बाधा, दबाव, तनाव और चिंता आदि समस्या उत्पन्न करते है।

FAQs

1. शुभ होरा क्या है?

वैदिक ज्योतिष की काल गणना के हिसाब से पुरे दिन का हर एक घंटा एक होरा है।

2. शुभ होता को कैसे जान सकते है?

आप के जन्म के समय ग्रहो की स्थति के हिसाब से ज्योतिष आप के शुभ होरा की गणना करता है।
Advertisement
Spread the love