डाक विभाग को 15,000 करोड़ का घाटा, कन्हैया कुमार बोले- चौकीदार ने 20 घंटे काम करके किया बर्बाद

डाक विभाग को 15,000 करोड़ का घाटा, कन्हैया कुमार ने कहा – चौकीदार ने 20 घंटे काम करके किया बर्बाद

भारत सरकार के स्वामित्व वाले उपक्रम इंडिया पोस्ट (India Post) ने घाटे के मामले में अन्य सरकारी उपक्रमों बीएसएनएल और एयर इंडिया को भी पीछे छोड़ दिया है। वित्त वर्ष 2019 में इंडिया पोस्ट के रेवेन्यू और खर्च के बीच का अंतर 15000 करोड़ रुपए के स्तर तक पहुंच गया। एक रिपोर्ट में ये बातें सामने आई हैं। सरकार के स्वामित्व वाले उपक्रमों एसएनएल और एयर इंडिया ने वित्त वर्ष 18 में क्रमश: 8000 करोड़ रुपए और 5340 करोड़ रुपए का घाटा दर्ज किया था।

बीएसएनएल और एयर इंडिया को पीछे छोड़ा:

दूसरे सरकारी उपक्रमों की तरह इंडिया पोस्ट ऊंची ऑपरेटिंग कॉस्ट और कर्मचारियों को कम्पन्सेशन जैसी दिक्कतों को सामना करना पड़ रहा है। कई पे कमीशन की रिपोर्ट लागू होने के कारण कर्मचारियों की सैलरी लगातार बढ़ती जा रही है। हालांकि पोस्टल सर्विसेस से रेवेन्यू गिरता जा रहा है। पोस्टल सर्विस जैसी यूनिवर्सल सर्विसेस के चलते घाटा होगा, क्योंकि सभी कमर्शियल बैंकों की कुल बैंक शाखाओं की तुलना में पोस्ट ऑफिस की संख्या ज्यादा है। इंडिया पोस्ट अपने हर पोस्ट कार्ड पर 12.15 रुपए खर्च करता है लेकिन उसे सिर्फ 50 पैसे यानी लागत का चार फीसदी ही मिलता है।

वेतन कॉस्ट रही 16620 करोड़ रुपए:

वित्त वर्ष 2019 में अलाउंस और वेतन की कॉस्ट लगभग 16620 करोड़ रुपए रही, जबकि रेवेन्यू 18000 करोड़ रुपए अर्जित हुआ। पीएसयू को अनुमान है कि वित्त वर्ष 20 में सैलरी और पेंशन पर खर्च क्रमश: 17451 करोड़ रुपए और 10271 करोड़ रुपए रहेगा, जबकि रेवेन्यू 19203 करोड़ रुपए रहने का अनुमान है। कंपनी वित्तीय संकट से बाहर निकलने के लिए लगातार कोशिश कर रही है लेकिन प्रोडक्ट कॉस्ट और पारंपरिक मेलिंग सर्विसेस में उपलब्ध सस्ते विकल्पों के बीच असमानता के कारण इसमें नाकाम हो रही है।

सूत्रों ने कहा कि, इंडिया पोस्ट से अपनी 4.33 लाख इम्प्लाइज की वर्कफोर्स और 1.56 लाख पोस्ट ऑफिसेस के नेटवर्क के दम पर ईकॉमर्स और अन्य वैल्यू एडेड सर्विसेस में संभावनाएं खंगालने के लिए कहा जा सकता है।

इस विवाद पर कन्हैया कुमार ने मोदी सरकार की चुटकी ली. उन्होंने ट्वीट कर अपनी बात लोगों तक तक रखी. उन्होंने भारतीय डाक विभाग को हो रहे घाटे के पीछे की वजह मोदी को बताया है और कहा की उन्होंने बिना छुट्टी लिए देश को बर्बाद करने के लिए काम किया.

कन्हैया ने ट्वीट में लिखा, ‘एयर इंडिया, BSNL, HAL के बाद अब भारतीय डाक विभाग की भी हालत ख़राब हो गई है और उसे 15,000 करोड़ रु. का घाटा हुआ है। देश यूँ ही बर्बाद नहीं हो रहा, चौकीदार साहेब ने इसके लिए हर दिन 20 घंटे काम किया है, वह भी बिना कोई छुट्टी लिए।’

Spread the love