यूपी की कानून पर सवाल उठाए तो कैसे

यूपी की कानून पर सवाल उठाएं तो कैसे?

लखनऊ: केंद्र की मोदी सरकार से लेकर प्रदेश की योगी सरकार हमेसा दावा करती रहती है कि प्रदेश में कानून बेवस्था सही है। हल ही में हुए बुलंदशहर और गाजीपुर की घटना से यही लगता है कि भाजपा सरकार के तमाम दावों के बावजूद प्रदेश में योगी सरकार का अपराध पर नियंत्रण नहीं है। इलाहाबाद से बीजेपी सांसद का कहना है कि सरकार अपनी है तो कानून पर सवाल उठाएं तो कैसे?

इलाहाबाद से बीजेपी के सांसद श्यामा चरण गुप्ता को पुलिस साथ बुलंदशहर और गाजीपुर में हुई घटनाये छोटी-मोटी घटना लगती है। बीजेपी सांसद का कहना है कि प्रयागराज में दो दिन पहले उनके ही रिश्तेदार को गोली मारी दी गई। लेकिन सरकार तो अपनी है कानून पर सवाल उठाएं तो कैसे?प्रदेश बहुत बड़ा है और आबादी ज्यादा होने की वजह से थोड़ी बहुत असावधानी हो जाती है। सूबे में पुलिसकर्मीयों की कमी होने से क्षेत्रीय संतुलन बिगड़ा हुआ है। कानून व्यवस्था तो पहले से ही ऐसा ही था और आज भी वैसा ही है और मीडिया द्वारा कानून व्यवस्था पर इतना ज्यादा कीचड़ उछालना उचित नहीं है।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी सरकार ने कानून व्यवस्था को खराब कर दिया है। गाजीपुर में हुए विवाद को प्रशासन चाहता तो रोक सकता था। प्रधानमंत्री का कार्यक्रम था, वहां पर इतनी सुरक्षा होने के बावजूद ऐसा हादसा हुआ। जहां योगी जी कहते है ठोक दो.. तो कभी पुलिस को समझ नहीं आता कि किसको ठोके और कभी जनता को नहीं समझ आ रहा है कि किसे ठोके। दोनों कन्फ्यूज हैं।

इस तरह के बयां से ये साफ होता है कि इन घटनाओ में हर किसी को सियासी नफे-नुकसान की ही फिक्र है। जनता के साथ हो रही घटनाओं से किसी को किछ लेना देना है ही नहीं।

Spread the love