Rahul Gandhi calls NRC-NPR a TAX like captive of note on the people of the country, BJP reversed

राहुल गांधी ने NRC-NPR को देश की जनता पर नोट बंदी की तरह एक TAX बताया, बीजेपी ने किया पलटवार

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को एनआरसी और एनपीआर की तुलना नोटबंदी से की और कहा कि ये दोनों कानून देश की जनता पर नोटबंदी की तरह टैक्स होगा. उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों के कारण दुनिया में देश की छवि बिगड़ी है. राहुल गांधी ने कहा, ‘केंद्र सरकार देश को बांटने में लगी है. एनपीआर हो या एनआरसी, यह देश के गरीबों पर एक टैक्स है. नोटबंदी देश के गरीबों पर एक टैक्स था. नोटबंदी में लोगों को अपने पैसे निकालने के लिए पैसे देने पड़े, यह भी ठीक वैसी ही स्थिति है. गरीब आदमी अफसर के पास जाएगा, अपने कागज दिखाइए, नाम में कुछ गड़बड़ी है तो पैसे दीजिए. गरीबों की जेब से करोड़ों रुपये निकालकर फिर 15 लोगों की जेब में जाएगा.’

हम आप को बता दे की कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने NRC और NPR को गरीबों पर एक तरह का टैक्स बताया. उन्होंने इसकी तुलना नोटबंदी से की. राहुल गांधी के इस बयान पर बीजेपी ने पलटवार किया है. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा, आज राहुल गांधी ने कहा कि NPR गरीब पर TAX है. NPR तो जनसंख्या रजिस्टर है, लोगों की जानकारी जो लोग देते हैं वो इसमें इकट्ठा करके रखते हैं, इसमें TAX कहां से आया? TAX कांग्रेस का कल्चर है- जयंती टैक्स, कोयला टैक्स, 2G टैक्स, जीजा जी टैक्स. उन्होंने कहा कि हम आज कांग्रेस से 2 मांग करते हैं, पहला- झूठ बोलना बंद करें इससे देश गुमराह नहीं होगा. देश ने आपको रिजेक्ट किया है. और दूसरा कर्ज माफी जैसे झूठे वादे करना बंद करें, जो कभी पूरे नहीं किए.

प्रकाश जावडेकर ने कहा कि लाभार्थियों की पहचान में NPR का बहुत बड़ा योगदान होता है और NPR एवं आधार दोनों उसकी महत्वपूर्ण कड़ी हैं. आधार के विषय में कांग्रेस केवल बोलती थी, 120 करोड़ भारतीयों को आधार देने का काम मोदी सरकार ने किया. उन्होंने कहा कि आज मोदी जी 100 रुपये भेजते हैं तो 100 के 100 रुपये गरीबों के खाते में जाते हैं.

Advertisement

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है, जहां एक अस्पताल में एक महीने में 77 बच्चों की मौत हुई है. राहुल गांधी को अगर जाना है तो वहां जाएं और अपनी सरकार को सुधारें. उसके बजाय ये बेतुके बयान देना बंद करें. जावडेकर ने कहा कि राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष थे तब भी और अब नहीं हैं तब भी कुछ भी बोलते हैं और लगातार झूठ बोलते हैं. 2019 के झूठ ऑफ द ईयर के लिए वे पात्र हैं. पहले राहुल के बयानों से परिवार परेशान था अब जनता और पूरी कांग्रेस परेशान है. उन्होंन कहा कि कांग्रेस का कल्चर देशहित का नहीं है. महात्मा गांधी से समय कांग्रेस अलग थी, इन गांधियों के समय में कांग्रेस अलग हो गई है.

Advertisement
Spread the love