नाथूराम गोडसे और वीर सावरकर के बीच समलैंगिक संबंध थे

नाथूराम गोडसे और वीर सावरकर के बीच समलैंगिक संबंध थे, ‘वीर सावरकर कितने वीर’ शीर्षक किताब में छपा

MP में कांग्रेस सेवादल (Congress Seva Dal) की ओर से बांटी गई एक किताब पर विवाद हो गया है। यह किताब वीर सावरकर पर है।  ‘वीर सावरकर कितने वीर ?’, किताब का टाइटल है। भोपाल में आयोजित किए गए 10 दिवसीय ट्रेनिंग कैंप में इसे बांटा गया।  इसमें महात्मा गांधी की हत्या, नाथूराम गोडसे और वीडी सावरकर का जिक्र किया गया है। किताब में दावा किया गया है कि नाथूराम गोडसे और वीर सावरकर के बीच समलैंगिक संबंध थे।

‘वीर सावरकर कितने वीर ? ‘ में कई किताबों के हवाले से तमाम तरह के दावे किए गए हैं. डॉमिनिक लैपिएर और लैरी कॉलिन की किताब ‘फ्रीडम एट मिडनाइट’ का जिक्र करते हुए इसमें लिखा है, ‘ब्रह्मचर्य धारण करने से पहले नाथूराम गोडसे के एक ही शारीरिक संबंध का ब्यौरा मिलता है. यह समलैंगिक संबंध थे. उनका पार्टनर था उनका राजनैतिक गुरु वीर सावरकर. सावरकर अल्पसंख्यक महिलाओं से बलात्कार करने के लिए लोगों को उकसाते थे.’

ये भी पढ़े : यशवंत सिन्हा ने कहा, ” भारत की सबसे खतरनाक टुकड़े-टुकड़े गैंग में सिर्फ दो लोग, ‘दुर्योधन’ और ‘दुशासन’ “

हम आप को बता दे की किताब में लिखा है, ‘सावरकर जब 12 साल के थे तब उन्होंने मस्जिद पर पत्थर फेंके थे और वहां की टाइल्स तोड़ दी थी.’ किताब के 14वें पन्ने पर सवाल है, ‘क्या सावरकर ने हिंदुओं को अल्पसंख्यक महिलाओं से बलात्कार करने के लिए प्रोत्साहित किया?’ इसके जवाब में लिखा है, ‘यह सही है. सावरकर ने बलात्कार को एक न्यायसंगत राजनैतिक हथियार बताया था. अपनी पुस्तक ‘सिक्स ग्लोरियस एपोक्स ऑफ इंडियन हिस्ट्री’ में जानवरों की व्यावहारिक प्रवृत्ति को जोड़ते हुए सावरकर ने व्याख्या की कि कैसे हर जानवर अपने अस्तित्व को बनाए रखने के लिए अपनी आबादी बढ़ाना चाहता है. यहां तक कि रावण और सीता के बारे में वे कहते हैं कि शत्रु की महिला को अगवा करने और उससे बलात्कार करने को तुम अधर्म कहते हो? ये तो परोधर्म है. महानतम कर्तव्य. उनके अनुसार हिंदुओं के विरुद्ध मुस्लिम महिलाएं इसलिए भाग लेती हैं क्योंकि उन्हें हिन्दू पुरुषों से इसके लिए बदला लिए जाने का डर नहीं होता है. जो कि इस विकृत सोच से ग्रस्त हैं कि महिलाओं को शिष्टाचार और सम्मान देना चाहिए.’

ये भी पढ़े : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन दिल्ली के सरकारी स्कूलों में होने वाली पैरंट टीचर मीटिंग को रुकवाना चाहते हैं क्यों ?

वही एक दूसरी किताब ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी- कुछ तथ्य और जानकारी’ में दावा किया गया है कि संघ शुरू से ही फांसीवाद और नाजीवाद से प्रेरणा लेता है. जैसे हिटलर ने यहूदियों के साथ किया आरएसएस भी देश के अल्पसंख्यकों को अपने नागरिक अधिकारों से वंचित करना चाहता है. जब इन दोनों पुस्तिकाओं में विवादास्पद सामग्री पर सवाल उठाया गया, तो कांग्रेस सेवा दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी देसाई ने कहा, ‘जो उल्लेख किया गया है वह ऐतिहासिक तथ्य है, जिसे उचित संदर्भों के साथ लिखा गया है. जनता के लिए बीजेपी द्वारा नायक के रूप में प्रस्तुत किए जाने वाले लोगों की वास्तविकता को जानना महत्वपूर्ण है. आज हमारे देश में हर किसी को अपनी बात रखने का अधिकार है.’

 

Spread the love