क्या अटल की अस्थियों के साथ सरकार के वादे भी विसर्जित हो गए

क्या अटल की अस्थियों के साथ सरकार के वादे भी विसर्जित हो गए

लखनऊ: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद उनकी अस्थियों को देश भर में प्रवाहित करने के लिए बीजेपी के तमाम मुख्यमंत्रियों ने अपने अपने राज्य में ‘अस्थि विसर्जन यात्रा’ निकाली थी। अलग-अलग मुख्यमंत्रियों ने अपने-अपने राज्य में वाजपेयी की याद में तमाम घोषणाएं की, लेकिन घोषणाओ की होड़ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सबसे आगे निकल गए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने घोषणा में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के पैतृक गांव ‘वटेश्वर’ को ‘आदर्श गांव’ बनाने तथा वाजपेयी की ‘अस्थि विसर्जन यात्रा’ के समापन पर बटेश्वर गांव में उनकी याद में भव्य स्मारक बनाने का भी वादा किया। लेकिन वाजपेयी का गांव अभी भी योगी के वादे के पूरा होने का इंतजार कर रहा है।

भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिवस के दिन उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने एक वादा और कर दिया। योगी सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिवस पर आदेश दिया कि लखनऊ स्थित लोकभवन में 25 फीट ऊंची वाजपेयी जी की प्रतिमा लगाई जाएगी।

Advertisement

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिवस पर उनके नाम का 100 रुपए का सिक्का जारी करके उन्हें अमर करने का प्रयास किया। लेकिन वाजपेयी जी का पैतृक गांव ‘बटेश्वर’ अभी भी प्रस्तावित भव्य स्मारक और वादों का इंतज़ार कर रहा है।

Advertisement
Spread the love