hanuman mantra

Hanuman Mantra

Hanuman Mantar have power and mantra Japa blesses one with the qualities of courage and confidence.

हनुमान जी के मन्त्रों का बड़ा महत्व है हिन्दू धर्म में सभी देवों के अलग-अलग मंत्र है सभी मन्त्र स्वयं में असीम शक्तियाँ रखते है हनुमान जी के मन्त्रों में बड़ी ही शक्ति होती है हनुमान जी का स्तुति मंत्र, भय को दूर करने वाला मंत्र, जीवन के संकटो को दूर करने वाला मंत्र

जाने हनुमान जयंती पर विशेष पूजा।

Advertisement

मंत्र मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते है – वैदिक मंत्र , बीज मंत्र और शाबर मंत्र इन तीनों प्रकार के मंत्र स्वयं में असीमित शक्तियां रखते है आज हम हनुमान जी के प्रमुख मन्त्रों/Hanuman Mantra के बारे में जानेगे नीचे दिए गये हनुमान जी के मन्त्रों से अलग अलग तरह की कार्य सिद्धि के लिए प्रयोग कर सकते है

पढ़े हनुमान जी की आरती

Hanuman Stuti Mantra – हनुमान स्तुति  मंत्र 

अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहम्, दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम् |
सकलगुणनिधानं वानराणामधीशम्, रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि ||

Advertisement

Manojavam Marutatulyavegam Mantra – हनुमान मंत्र

ॐ मनोजवं मारुततुल्य वेगम् जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठं
वातात्मजं वानर युथमुख्यं श्री रामदूतं शरणं प्रपद्ये ||

 

 Hanuman Moola Mantra

ॐ श्री हनुमते नमः॥

Advertisement

Hanuman Gayatri Mantra

ॐ आञ्जनेयाय विद्महे वायुपुत्राय धीमहि।
तन्नो हनुमत् प्रचोदयात्॥

हनुमान द्वाद्श्याक्षर मंत्र – Hanuman Dwadashakshar Mantra

 हं हनुमते रुद्रात्मकायं हुं फट् 

Hanuman Sarv Sidhi Mantra – सर्व मनोरथ सिद्धि मंत्र

अंजनी के नन्द दुखः दण्ड को दूर करो सुमित को टेर पूजूं
तेरे भुज दण्ड प्रचंड त्रिलोक में रखियो लाज मरियाद मेरी
श्री रामचन्द्र वीर हनुमान शरण में तेरी

Advertisement

Hanuman Mantra भूत-प्रेत आदि के निवारण के लिए

ॐ नमो हनुमते रुद्रावताराय पंचवदनाय दक्षिण मुखे
कराल बदनाय नारसिंहाय सकल भूत प्रेत दमनाय
रामदूताय स्वाहा।

Hanuman Mantra for Fear – भय निवारण के लिए

अंजनीगर्भसम्भूताय कपीन्द्र सचिवोत्तम रामप्रिय नमस्तुभ्यं हनुमान रक्ष रक्ष सर्वदा

 वशीकरण मंत्र – Hanuman Mantra

ॐ नमो हनुमते उर्ध्वमुखाय हयग्रीवाय रुं रुं रुं रुं रुं रूद्रमूर्तये प्रयोजन निर्वाहकाय स्वाहा

Advertisement

हनुमान जी के व्यापर में प्रगति के लिए मंत्र

जल खोलूं जल हल खोलूं खोलूं बंज व्यापार आवे धन अपार,  फुरो मंत्र ईश्वरोवाचा हनुमत वचन जुग जुग सांचा।

Spread the love