Manglik Dosh

Mangal or Manglik Dosh in Hindi

जानिए कैसे बनता है कुंडली में मांगलिक दोष

जब किसी जातक कीजन्म कुंडलीमें मंगल ग्रह का दुस्प्रभाव नजर आता है साथ ही उसकी स्थति पहले, दुसरे, चौथे, सातवे, आठवे तथाबारहवें भाव में है तो मांगलिक दोष कहा जाता है| इनके आलावा सभी भावो में भी मंगल अलग तरीके से अच्छे बुरे प्रभाव दे सकता हैपरन्तु उसे मांगलिक दोष नहीं कहेगे|

क्या है मांगलिक दोष, कब बनता है कुंडली में

मुख्यतः मांगलिक दोष को शादी के लिये सही नहीं मन जाता है लेकिन शादी के अलावा मांगलिक दोष जीवन के दूसरे पहलुओं को भी प्रभावित करता है|

पहले, दुसरे, चौथे, सातवे, आठवे तथा बारहवें इन छ: भावो में मंगल किस प्रकार विवाह और जीवन के दूसरे पक्षों में समस्याए उत्पन्नकरता है!

इस वजह से मांगलिक दोष होते हुए भी व्यक्ति नहीं कहलाता मांगलिक-

जब कुंडली में मंगल आठवें और बारहवें भाव में होता है तो ही मंगल अपना दुष्प्रभाव दिखाता है| इसके अलावा पहले, चौथे और सातवेंभाव में मंगल ज्यादा दुष्प्रभावी नहीं है|

आपजन्म कुंडलीमें मंगल दोष जानने के लिये|विजिट करे मंगल दोष कैलकुलेटर

मंगल ग्रह कुंडली में किसी और ग्रह के साथ रहना पसंद नहीं करता| यही कारण है कि मांगलिक व्यक्ति को मांगलिक लोगों से ही शादीकरनी चाहिए|

मंगल दोष या मांगलिक दोष के प्रभाव को कम करने के उपाय है

  • बजरंगबली कि नियमित उपासना।
  • यह मंगल के हर तरह के दुष्प्रभावको निष्फल करने में सहायक है।