नही रहे गोवा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर, केंद्र सरकार ने 18 मार्च को घोषित किया राष्ट्रीय शोक

आधी बांह के शर्ट और पैंट पहने, चश्मे और साधारण घडी में नजर आने वाले गोवा के मुख्यमंत्री मानोहर पार्रिकर का रविवार को निधन हो गया ।

मुम्बई IIT से इन्होंने इंजिनीरिंग भी की है साथ ही मनोहर पर्रिकर संघ के प्रचारक भी थे।

पार्रिकर 2014 से 2017 तक रक्षा मंत्री रहे थे । जब उरी में हमला हुआ तब पर्रिकर जी हमारे देश के रक्षा मंत्री थे । पर्रिकर जी के इस पद रहते ही कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक हुई थी ।

Advertisement

मनोहर पार्रिकर अपनी सादगी से देशभर में लोकप्रिय थे।
फरवरी 2018 से ही पैंक्रियाटिक केंसर से जूझ रहे 63 वर्षीय पार्रिकर ने रविवार शाम को अंतिम सांस ली।

ये भी पढ़े..AIADMK के मंत्री बोले,नरेन्द्र मोदी हमारे और हिंदुस्तान के पापा हैं।

ट्विटर पर ट्वीट करते हुए माननीय राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद उनके निधन की सूचना दी ।

Advertisement

उन्होंने लिखा की “गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर के निधन के बारे में जानकर गहरा दुख हुआ । उन्होंने दृढता और गरिमा से अपनी बीमारी का सामना किया । सार्वजनिक जीवन में सत्यनिष्ठा और समर्पण के प्रतीक रहे पार्रिकर ने गोवा की और भारत की जो सेवा की है, वह हमेशा याद रखी जाएगी ।”

 

केद्र सरकार ने 18 मार्च को एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया है । उनका अंतिम संस्कार सोमवार की शाम में किया जाएगा, जिसमे केद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी शामिल होंगे ।

Advertisement

ये भी जाने..आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या हैै।

मनोहर परींकर का जन्म 13 दिसंबर 1955 को मापुसा के एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था । रक्षा मंत्रालय ने भी मनोहर पार्रिकर के निधन पर शोक जताया ।

Advertisement
Spread the love