समाजवाद को मिला एक और नया युवा नेता

समाजवाद को मिला एक और नया युवा नेता

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के महासचिव और शिवपाल सिंह यादव के सुपुत्र आदित्य यादव अंकुर एक परिपक्व नेता की तरह उभर कर सामने आ रहे हैं। उनकी छवि अब एक मजबूत युवा नेता के रूप में बन चुकी है। रमाबाई मैदान में हुई जनाक्रोश रैली में उन्होंने यह साबित कर दिया कि युवाओं को अपने पक्ष में लामबंद करने की क्षमता अब उनमें मौजूद है। इससे पहले फिरोजाबाद तक हुए रोड शो में भी आदित्य अपनी क्षमता का लोहा मनवा चुके हैं।

आदित्य यादव ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि आज के समय में केवल हिंदू मुस्लिम डिबेट होती है। ये भाजपा की देन है। उन्होंने कहा कि 2019 में असली मुद्दों को उठाया जाएगा। बेरोजगारी पर चर्चा होनी चाहिए। समाजवाद की बात तो बहुत से लोग करते हैं लेकिन यह सब देख रहे हैं कि जमीन पर काम कौन करता है।

आदित्य यादव ने युवाओं से आहवान करते हुए कहा कि देश की सबसे बड़ी ताकत संविधान को भी समझें। बेरोजगारी आज की बड़ी समस्या है। हिंदू-मुस्लिम को बांटने की कोशिश हो रही है।

उन्होंने कहा कि हम हिन्दू मुस्लिम की बात नहीं करेंगे। हम रोजगार के लिए बात करेंगे। हम अपनी सुरक्षा के लिए बात करेंगे। हम प्रगतिशील को ही अपना धर्म बनाएंगे। उसको आगे बढ़ाएंगे।

आदित्य ने योगी सरकार पर भी जमकर हमला किया । उन्होंने कहा कि आज लोग शहरों के नाम बदल रहे हैं। शहर का नाम बदलना तो आसान है लेकिन उनकी सीरत कैसे बदलोगे? आदित्य ने कहा कि अगर विकास ही करना है तो नए शहर बनाइए ताकि विकास किया जा सके। उन्होंने युवाओं से निकम्मी और नाकारा सरकार को उखाड फेंकने का भी आहवान किया।

जनाक्रोश रैली में शिवपाल सिंह यादव के समर्थन में मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव ने उनका समर्थन किया। वहीं इस रैली में मुलायम सिंह यादव की मौजूदगी ने सभी को चौंका दिया।