krishna janmabhoomi

Krishna Janmabhoomi – कृष्ण जन्मस्थान

Krishna Janmabhoomi Story in Hindi

कृष्णा जन्म भूमि परंपरा के अनुसार इस जगह को कृष्ण के जन्मस्थान के रूप में माना जाता है। भगवान श्री कृष्णा का जन्म उस समय कंस की एक जेल में हुआ था। 1949 के समय की फोटो में जेल एक पत्थर की प्लेट द्वारा चिह्नित है। इसके दाईं ओर ईदगाह है। आधुनिक मंदिर परिसर के निर्माण से पहले यह चित्र 1949 में लिया गया था (सोर्स विकिपीडिया)।

Shri_Krishna_Janmabhoomi_birth_site_1949
DPD/Aug.49, A04b
The site celebrated as the birth place of Lord Krishna. Shri Krishna, as tradition goes, was born in a prison and the prison is said to have existed on the plot marked by a stone plate. To the right of it is the idgah.

इतिहास में कृष्णा जन्म भूमि पर बने मंदिर को 1670 में औरंगजेब ने नष्ट कर दिया। मुगल सम्राट जहांगीर के शासनकाल में अब्दुल्ला ने 16 वीं शताब्दी में दिल्ली सुल्तान सिकंदर लोदी द्वारा मथुरा और उसके मंदिरों के विनाश के तारिख-ए-दाउदी में उल्लेख किया है।

20 वीं शताब्दी में, जन्मस्थान पर गर्भगृह मंदिर का निर्माण जन सहयोग और उद्योगपतियों ने करवाया जिसका नाम केशवदेव मंदिर रखा गया।

1804 में मथुरा ब्रिटिश नियंत्रण में आ गया। ईस्ट इंडिया कंपनी ने कटरा की भूमि की नीलामी की और इसे बनारस के एक धनी बैंकर राजा पटनीमल ने खरीद लिया।

आगे विकी पीडिया ने इसको किसी कानूनी पचड़े में डाल दिया है जो आप को समझ नहीं आएगा की इसका कृष्णा जन्म भूमि की श्रद्धा से क्या लेना देना है। और जिस फोटो में साक्ष्य दिया जा रहा है वो कही भविस्य में गलत इतिहास को सही सिद्ध करने की साजिस का हिसाब थो नहीं था। और ये हिन्दुओ की पवित्र जगह के पास मस्जिद का होना ये हमेसा से ही एक साजिस का हिस्सा रहा है। चाहे वो राम मंदिर हो , काशी विश्वनाथ हो या हिन्दुओ का पवित्र तीर्थ – पुष्कर तीर्थ राज और पृथ्वीराज चौहान की धरती पर मोइनुद्दीन चिस्ती की दरगाह। सब चीजे आप देखे तो आप का भी करेगा की आप इतिहास की तह तक जाये और सोचने पर मजबूर हो जाओगे की जो आप ने आज तक पढ़ा वो आप को एक साजिश के तहत पढ़ने को मजबूर किया गया हो। वो ही अब आप को सत्य सा प्रतीत होता हो।

अब आगे की बात – जुगल किशोर बिड़ला ने एक और उद्योगपति और परोपकारी जयदयाल दलिया के साथ नए मंदिर का निर्माण सौंपा। मंदिर परिसर का निर्माण अक्टूबर 1953 में भूमि के समतलन के साथ शुरू हुआ था और फरवरी 1982 में पूरा हुआ। उनके सबसे बड़े पुत्र विष्णु हरि डालमिया ने उनकी सफलता हासिल की और ट्रस्ट में उनकी मृत्यु तक सेवा की।

उनके पोते अनुराग डालमिया ट्रस्ट के संयुक्त प्रबंध ट्रस्टी हैं। निर्माण को रामनाथ गोयनका सहित अन्य व्यावसायिक परिवारों द्वारा वित्त पोषित किया गया था। 1968 में, ट्रस्ट और शाही ईदगाह समिति ने एक समझौता किया, जिसने ट्रस्ट को मंदिर की जमीन और शाही ईदगाह के प्रबंधन की अनुमति दी और साथ ही शाही ईदगाह पर ट्रस्ट का कोई कानूनी दावा नहीं किया।

1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद, वृंदावन के निवासी मनोहर लाल शर्मा ने मथुरा जिला न्यायालय में 1968 के समझौते को चुनौती देने के साथ-साथ धार्मिक पूजा अधिनियम 1991 के स्थानों को खत्म करने के लिए एक याचिका दायर की है जो संरक्षित है। 15 अगस्त 1947 को सभी पूजा स्थलों के लिए यथास्थिति।

गणेश वासुदेव मावलंकर ट्रस्ट के पहले अध्यक्ष थे। वह एम. ए. अयंगर द्वारा सफल हुए, उसके बाद अखंडानंद सरस्वती और रामदेव महाराज थे। नृत्यगोपालदास वर्तमान अध्यक्ष हैं

Spread the love