Rule-for-Reading-Hanuman-Chalisa

Rule for Reading Hanuman Chalisa – हनुमान चालीसा का पाठ रखें इन बातों का ध्यान

हनुमान चालीसा पाठ : हनुमान चालीसा पढ़ते वक्‍त रखें इन खास नियमों का ध्‍यान (Rule for Reading Hanuman Chalisa), नियम के साथ हनुमान चालीसा पढ़ने से ही मिलेगा मनचाहा फल। हनुमान चालीसा का पाठ करते वक्‍त रखें इन बातों का खास ध्यान।

हिंदू धर्म में कई देवी देवताओं की आराधना की जाती है। भगवान हनुमान की पूजा का भी हिंदू धर्म में खास महत्‍व है। धार्मिक मान्‍यताओं के आधार पर मंगलवार के दिन बजरंगबली के भक्‍त अपने आराध्‍य की विशेष पूजा करते हैं। साथ ही हनुमान चालीसा का पाठ भी करते हैं। हनुमान जी के भक्‍त पुरुष हों या महिलाएं सभी हनुमान चालीसा का पाठ कर सकते हैं। मगर क्‍या आपको पता है कि हनुमान चालीसा का पाठ करने के कुछ नियम और कायदे होते हैं।

Read Sunderkand Lyrics in Hindi.

Rule for Reading Hanuman Chalisa in Hindi

यदि आप बजरंगबली के भक्‍त हैं और उनका आशीर्वाद पाना चाहते हैं तो, हनुमान चालीसा का पाठ करते वक्‍त इन खास नियमों का जरूर पालन करें।

  • बिना श्रीराम की पूजा के हमुमान जी की पूजा ना करें।
  • प्याज, मांस-मंदिरा या अन्य किसी नशे का इस्तेमाल ना करें।
  • कम से कम 3 बार से लेकर 108 बार तक चालीसा का पाठ करें।
  • चालीसा पढ़ते समय घी का दीपक जरूर जलाएं।
  • हनुमान चालीसा की चौपाइयों को शुद्ध और शांत मन से बैठ कर और बोल कर पढ़ना चाहिए।
  • सुबह नहा कर साफ सुथरे कपड़े धारण कर के हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए
  • मान्यताओं के अनुसार पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए।
  • ऐसी धार्मिक मान्यता है की पीपल का पढ़ देवी लक्ष्‍मी और शनि देव दानों को ही प्रिय है। अगर पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ किया जाए तो हनुमान जी के साथ-साथ देवी लक्ष्‍मी और शनि देव का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है।
  • नुमान चा‍लीसा का पाठ करते वक्‍त लाल रंग के वस्‍त्र पहनें
  • गुड़ चना या बूंदी का प्रसाद चढ़ाएं। 

 

  1. महिलाएं इस बात का भी ध्‍यान रखें कि हनुमान जी को प्रणाम करते वक्‍त सिर न झुकाएं क्‍योंकि हनुमान जी सभी महिलाओं को मां के स्‍थान पर रखते हैं।इसके साथ ही मन ही मन ‘राम-राम’ का जाप करें।
  2. महिलाओं को हनुमान जी को छूना मना होता है क्‍योंकि वह ब्रह्मचारी थे। इसलिए महिलाएं न तो हनुमान जी को वस्‍त्र चढ़ा सकती हैं और न ही हनुमान जी को स्‍नाना करा सकती हैं।

पढ़े हनुमान जी के 108 नाम।

Note: ऊपर कही गए बाटे कितनी सही है इसके लिए किसी पडित विद्वान से ज़रूर जानकारी प्राप्त करे। अगली बार जब आप हनुमान चालीसा का पाठ करें तो इन नियमों को जरूर ध्‍यान में रखें। साथ कोई भी जो हनुमान जी का व्रत करना छठा है वो एक बार अपने विद्वान पडित से सलाह ज़रूर करे।

Spread the love