Sharda Puja 2020 Date – Sharda Puja Vidhi & Muhurat

Sharda Puja 2020: इस विधि से करें मां शारदा की पूजा, मिलेगा विद्या और बुद्धि का वरदान।

Sharda Puja 2020: दिवाली (Diwali) के दिन भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के साथ ही माता शारदा यानी सरस्वती जी (Goddess Saraswati) की भी पूजा की जाती है। माता सरस्वती को विद्या और बुद्धि की देवी माना जाता है। इसलिए इस दिन इनकी पूजा विधिवत करनी चाहिए तो आइए जानते हैं मां शारदा की पूजा विधि।

शारदा पूजा शुभ मुहूर्त के लिए चौघड़िया

Advertisement

Sharda Puja 2020: माँ शारदा जो की विद्या की देवी है, दिवाली के दिन लक्ष्मी माता और गणेश जी के साथ इनकी भी पूजा की जाती है। विद्यार्थियों के लिए यह मां शारदा ( Goddess Sharda Puja) की पूजा करने से विद्या अर्जन में आ रही सभी रूकावटें समाप्त हो जाती है, और सफलता के रस्ते खुलते है।

कब है शारदा पूजा?

शारदा पूजा 2020 में 14 नवंबर 2020 (Sharda Puja 14 November 2020) को है, तो आइए जानते हैं मां शारदा पूजा विधि।

मां शारदा की पूजा विधि (Maa Sharda Ki Puja Vidhi)

  1. दिवाली के दिन भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के साथ माँ शारदा की भी पूजा की जाती है।
  2. पूजा के लिए एक साफ चौकी पर सफेद वस्त्र बिछाकर गंगाजल छिड़क कर उसे पवित्र करे उसके बाद माता सरस्वती की मूर्ति या फोटो रखे।
  3. यदि आप इस पूजा में सरस्वती यंत्र स्थापित करते है तो यह आपके लिए मंगलकारी होता है।
  4. माता सरस्वती की पूजा से पहले भगवान गणेश का विधिवत पूजन करें।
  5. मां शारदा को सफेद या फिर पीले फूल, सफेद चंदन और वस्त्र अर्पित करें।
  6. मां का श्रृंगार करने के बाद “ॐ ह्रीं ऐं ह्रीं सरस्वत्यै नमः” मंत्र का जाप करें।
  7. मां शारदा के साथ पुस्तकों और वाद्य यंत्रों की भी पूजा करें।
  8. इसके बाद मां शारदा की कथा पढ़े या सुनें।
  9. उसके बाद माता शारदा की धूप व दीप से आरती गए।
  10. माता शारदा की आरती के बाद उन्हें दही, हलवा, केसर मिली हुई मिश्री के प्रसाद का भोग लगाएं। पूजा के लिए माँ सरस्वती की आरती
  11. इसके बाद माता शारदा से पूजा में हुई किसी भी भूल के लिए क्षमा याचना अवश्य करें।
  12. अंत में यदि संभव हो तो बच्चों को पुस्तकों का दान अवश्य करें।

माँ सरस्वती के आशीर्वाद के लिए श्री सरस्वती चालीसा

Advertisement

 

 

 

Advertisement

 

 

Advertisement
Advertisement
Spread the love